ब्रेकिंग – मोदी सरकार ने दिए असम राइफल्स को हाहाकारी आदेश, हथियार ले कर निकले जवान !

ई दिल्ली : भारत में पहले से ही कांग्रेस राज में लाखों रोहिंग्या मुस्लिम घुसपैठ कर चुके हैं और यहाँ पाकिस्तान के स्लीपर सैल बनकर रह रहे हैं. म्यांमार में हिंसा का तांडव मचाने के बाद लाखों रोहिंग्या भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं. ताजा जानकारी के मुताबिक़ म्यांमार की सीमा से लगते मणिपुर की ओर हजारों रोहिंग्या मुस्लिमों के बढ़ते देखा गया है. ये कट्टरपंथ मणिपुर के पहाड़ी जिलों में और असम में घुसने की कोशिश में हैं, जिसके चलते मोदी सरकार की ओर से असम राइफल्स को सख्त आदेश जारी किये गए हैं.

असम राइफल्स को दिए गोली चलाने के निर्देश !
असम व् मणिपुर में बड़ी संख्या में रोहिंग्या मुस्लिम घुसपैठ की फिराक में हैं, इसलिए मोदी सरकार ने असम राइफल्स यूनिट के जवानों को आदेश दिया है कि कोई भी अवैध घुसपैठिया जिन्दा बचने ना पाए, सभी के साथ सख्ती से निपटा जाए क्योंकि ये भारत की आतंरिक सुरक्षा से जुड़ा मामला है. घुसपैठियों को चेतावनी दी जाए कि वो भारत में घुसने की कोशिश ना करें, यदि चेतावनी के बाद भी वो आगे बढ़ते हैं, तो उन्हें सीधा ठोक दिया जाए.

मोदी सरकार के आदेश के बाद असम राइफल्स की तरफ से एक बयान जारी किया गया, जिसमें कहा गया है कि म्यांमार से रोहिंग्या मुस्लिमों की भारत में घुसपैठ रोकने के लिए असम राइफल्स के जवान हाई अलर्ट पर हैं, खासकर पूर्वोत्तर के पहाड़ी जिलों पर जवानों ने पहरा बढ़ा दिया है.

 

रेड अलर्ट जारी !
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नागालैंड की 215 किलोमीटर, मणिपुर की 398 किलोमीटर, अरुणाचल प्रदेश की 520 किलोमीटर और मिजोरम की 510 किमोमीटर सीमा म्यांमार से लगी हुई है. मणिपुर में बीजेपी सरकार ने घुसपैठ की आशंका से रेड अलर्ट जारी किया है. पुलिस ने भी सर्च ऑपरेशन बढ़ा दिया है.

कांग्रेस सरकार ने वोटबैंक का खातिर पहले ही रोहिंग्या मुस्लिमों को देश में घुसाया हुआ है. भारत में शरणार्थी शिविर रोहिंग्या मुसलमानों से भरे हुए हैं. अब भारत में इनके समर्थक इनके लिए घर और जमीन की भी मांग कर रहे हैं, भारत में पहले से ही जल, जंगल और जमीन की कमीं है. भारत पहले से ही गरीबी और बेरोजगारी से परेशान है, ऐसे में रोहिंग्या मुसलमान आज भारत से घर और जमीन मांग रहे हैं तो कल मोदी सरकार से रोजगार भी मांगेंगे.

सरकार ने भी सख्त रुख अपनाते हुए सभी रोहिंग्याओं को देश से निकाल फेकने का फैसला ले लिया है और अन्य रोहिंग्या घुसपैठियों को रोकने के लिए बॉर्डर पर शूट एट साईट के ऑर्डर्स जारी कर दिए हैं.