म्यांमार के बाद भारत में भी शुरू हुआ रोहिंग्या का आतंक, खौफनाक मंजर देख पुलिस के भी फूले हाथ-पांव

जयपुर : रोहिंग्या कट्टरपंथियों को लेकर अभी से हिंदुस्तान में दंगे होने शुरू हो गए हैं. अभी कश्मीर में कट्टरपंथी मुस्लिमों ने जुम्मे की नमाज़ के बाद ज़बरदस्त दंगा काटा. हालाँकि मोदी सरकार ने एडवाइजरी जारी कर हर राज्य से रोहिंग्या को निकल बाहर करने के आदेश दे चुके हैं. अगर जल्द ही इन रोहिंग्या कट्टरपंथियों को नहीं रोका गया तो म्यांमार जैसी हालत भारत में भी पैदा हो जाएगी. तो वहीँ अब जयपुर से बेहद हैरान करने वाली खबर आ रही है जिसका असली सच हम आपको बताएँगे.
<h4>जयपुर में कल रात जो हुआ वो एक मामूली घटना नहीं थी.पूरा का पूरा पावर हाउस फूंक दिया

अभी बहुत बड़ी खबर जयपुर से आ रही है जिसकी असल सच्चाई पढ़ आप की आँखें गुस्से से फट पड़ेंगी. जयपुर में बंगाल की तरह हुए दंगे के पीछे रोहिंग्या मुस्लिम कट्टरपंथियों के लोगों का हाथ है. किसी भी मीडिया ने इस खबर को प्रमुखता से नहीं दिखाया. बड़ी चालाकी से इस खबर को रफा दफा कर दिया गया है

कर्फ्यू लगाने की नौबत तक आ गयी, और मीडिया चुप्पी साधे रही
शहर के रामगंज थाना क्षेत्र में दंगे जैसी स्थिति होने के बाद प्रशासन ने सख्त रुख अपनाते हुए रात के दो बजे शहर के चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया. स्थिति बद्द से बदतर हो गयी कि कश्मीर की तरह जयपुर में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद करने की नौबत आ गयी.
यह है असली मामला
आपको बता दें इस इलाके में काफी वक़्त से रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर तनाव फैला हुआ था, जिसमें जाँच एजेंसियों को लग रहा था की यहाँ दंगा फैलाया जा सकता है. इस मामले की शरुआत तब हुई, जब रात में साजिद नाम का एक युवक अपनी बीवी और दो बच्चों के साथ एक बाइक पर बिना हेलमेट के जा रहा था. पुलिस ने उसे रोक लिया और कागज़ और लाइसेंस मांगे. उसके पास कुछ भी नहीं था, ऐसे में उसने पुलिस वाले के साथ मारा-मारी शुरू कर दी. जवाब में पुलिस वाले ने भी डंडे का प्रयोग किया. जिसमें उसकी पत्नी भी पुलिसवाले पर टूट पड़ी और उसे भी डंडा लग गया.

भयंकर दंगा किया गया
फिर क्या, देखते ही देखते इस छोटी सी घटना को खुनी दंगे का रूप दे दिया गया. इस साजिद ने अपनी कॉलोनी में खबर दे दी और देखते ही देखते मुस्लिमों की भारी भीड़ इकट्ठी हो गयी और उन्होंने थाने के सामने खड़ी चार गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. इस उग्र मुस्लिम भीड़ ने पूरे के पूरे पावर हाउस को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद यह भीड़ यहीं नहीं रुकी इन्होने पूरे थाने का घेराव करने के बाद उसे फूंकने का इंतज़ाम कर लिया, उग्र भीड़ ने आगजनी और भारी पथराव शुरू कर दिया तो जिसके बाद पुलिस के हाथ पांव फूल गए तो उन्होंने आंसू गैस के गोले चलाने शुरू कर दिए और लाठी चलानी शुरू कर दी

एम्बुलेंस में लगायी आग
इस ज़बरदस्त पत्थरबाज़ी में एक दर्जन से ज़्यादा पोलिसवाले घायल हो गए हैं. यही नहीं इसके बाद गुस्साए मुस्लिमों की भीड़ ने पुलिस स्टेशन के बाहर खड़ी एक एंबुलेंस और कई दो पहिया वाहनों को बुरी तरह आग के हवाले कर दिया. सबसे बड़ी खबर जो सामने आयी है वो ये कि जयपुर-दिल्ली हाइवे पर बांग्लादेशी मुसलमानों की बस्ती है. और इस बस्ती में ज्यादातर रोहिंग्या मुस्लिम है जो म्यामांर से शरणार्थी के रूप में हिंदुस्तान में घुस आये हैं.

रोहिंग्या मुस्लिमों की है बस्ती, ड्रोन से हुआ बड़ा खुलासा
यही नहीं अगले दिन जब पुलिस ने पूरे इलाके की ड्रोन की मदद से जांच करी गयी तो नज़ारा देख कर उनकी आंखें फटी रह गयी. ड्रोन से हुई निगरानी में नजर आया कि पूरे मुस्लिम इलाके की घरों की छतों पर भारी पत्थर और ईटें जमा करी गयी थीं. यानि की अगले दिन भी दंगा भड़काने पहले से पूरी प्लानिंग बनायीं गयी थी.
पंचकूला में छाती पीटने वाली TV मीडिया ने बंद कर ली आंखें
इतना बड़ा दंगा हो गया और एक भी टीवी चैनल ने दिखाना ज़रूरी नहीं समझा न ही इसके पीछे की असलियत दिखाई गयी. जबकि आपको याद होगा सिरसा में बाबा गुमीत सिंह की गिरफ़्तारी पर जब दंगा भड़का तो सभी न्यूज़ चैनल ने 24 घंटा लाइव अपने रिपोर्टर भेजकर एक-एक आग में जले वाहन के पास जाकर बेहद करीब से लाइव रिपोर्टिंग करते हुए खबरें दिखाई थी. तो वहीँ जयपुर की इस रोहिंग्या मुस्लिम दंगे को मामूली घटना बनाकर लिखा गया.